ऐसे हुई थी भीष्म पितामह (Bhisma Pitamah) की बाण शैया की तैयारी

0
482
Bhishma Pitamah
Bhishma Pitamah

क्या आप जानते हैं कि भीष्म पितामह (Bhisma Pitamah) की बाणों की शैया को तैयार करने के लिए कितनी मेहनत की गई थी.”महाभारत” सीरियल को बलदेव चोपड़ा ने बनाया था और उनके बेटे रवि चोपड़ा ने इससे जुडी जानकरी साझा की.

टीवी की दुनियाँ में कई सीरियल या धारावाहिक ऐसे हुए हैं जो हमेशा दर्शकों को याद रहेंगे. भारतीय लोग इन्हे बहुत पसंद भी करते थे और सालों बाद भी इन्हे काफी पसंद किया जा रहा है, शायद अब आप समझ गए होंगे कि हम रामायण और महाभारत की बात कर रहे हैं.

दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले इन धारावाहिकों ने चैनल की लोकप्रियता को भी काफी फायदा पहुँचाया है आज हम आपको बताएंगे कि महाभारत सीरियल में भीष्म पितामह की बाणों की शैया को कैसे तैयार किया गया था और उसके लिए कितनी मेहनत की गई थी.

कैसे तैयार हुई थी भीष्म पितामह (Bhisma Pitamah) की शैया ?

एक पुराने इंटरव्यू में रवि चोपड़ा ने बताया, “महाभारत में भीष्म (Bhisma Pitamah) के तीर आर-पार निकल गए थे और जमीन में धँस गए थे, हमें दिखाना था कि उसी तीरों की शैया पर पितामह (Bhisma Pitamah) इतने दिन तक लेटे रहे थे, चूँकि उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान था इस वजह से उनकी मृत्यु नहीं हुई.”

रवि ने आगे बताया, “जाहिर है हम तीर तो आर-पार नहीं कर सकते थे तो हमने तीर लगाकर इस तरह की प्लेटें बनाईं जिनसे लगे कि तीर घुसे हुए हैं, आधी प्लेट पर हमने तीरों का निचला हिस्सा लगा दिया और उन पर भीष्म(मुकेश खन्ना) को लिटा दिया और उनके कपड़ों के नीचे हम दूसरी प्लेट लगा देते थे जिसमें तीर के दूसरे हिस्से को लगाते थे. इस तरह लगता था कि तीर जिस्म के आर-पार हो गए हैं, हमने हर इंच पर तीर को लगाने के लिए जगह बनाकर लगाया था जो देखने में बिल्कुल असली जैसे लगते थे और जब उन्हें लिटाया जाता था तो वे घंटों तक लेटे रहते थे.”

बाणों की शैया बनाने में बहुत मेहनत लगी साथ ही पूरा काम बहुत सावधानी से किया गया इस वजह से एक्टर को घंटों चले इस शूट में कोई चोट भी नहीं आई.

महाभारत में मुकेश खन्ना के किरदार को बहुत पसंद किया गया था और महाभारत के प्रसारण के बाद से मुकेश खन्ना की लोकप्रियता भी बहुत बढ़ गई, इसके बाद मुकेश खन्ना, शक्तिमान जैसे सीरियल में भी मुख्य भूमिका में रहे.