SURYA GRAHAN नजदीक, ग्रहण काल में क्या करना है सही

0
419
SURYA GRAHAN
SURYA GRAHAN

इस साल का पहला SURYA GRAHAN आने वाले रविवार, 21 जून को है यह सूर्य ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा

एक पंडित के अनुसार ग्रहण का स्पर्श सुबह लगभग 10.14 बजे से, ग्रहण का मध्य 11.56 बजे पर तथा ग्रहण का मोक्ष काल लगभग 1.38 बजे होगा

हालाँकि भारत में विभिन्न जगहों पर ग्रहण का समय अलग रहेगा, यह ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र में तथा मिथुन राशि में लगेगा और ग्रहण के दिन राहु-केतु के अलावा अन्य ग्रह गुरु, शनि, बुध और शुक्र वक्री रहेंगे।

कहां-कहां दिखेगा SURYA GRAHAN

यह सूर्य ग्रहण भारत के साथ ही एशिया, अफ्रीका तथा यूरोप के कुछ क्षेत्रों में भी दिखेगा सभी जगह पर सूर्य ग्रहण का समय अलग रहेगा।

भारत में ज्योतिषीय असर

यह SURYA GRAHAN भारत में भी दिखेगा, इस वजह से इसका सूतक भी रहेगा, सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण से 12 घंटे पहले शुरू हो जाता है इस कारण ग्रहण का सूतक 20 जून रात 10.14 बजे से शुरू हो जाएगा और ग्रहण के साथ ही 21 जून दोपहर 1.38 बजे तक रहेगा, 2020 का यह सिर्फ एक ग्रहण होगा जो भारत में दिखेगा और इस ग्रहण का धार्मिक असर भी मान्य होगा।

ग्रहण काल में पूजा-पाठ

भारत में यह ग्रहण दिखेगा, इस वजह से देश में सूर्य ग्रहण से संबंधित सावधानी रखें और सूतक रहेगा, सूतक काल में पूजा-पाठ नहीं करनी चाहिए, ग्रहण काल में मानसिक रूप से मंत्रों का जाप कर सकते हैं। जैसे राम नाम का जप, ऊँ नम शिवाय का जप, सीताराम का जप अथवा श्री गणेशाय नम: आदि मंत्रों का भी जाप कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने इष्टदेव का भी ध्यान कर सकते हैं।

SURYA GRAHAN में क्या करें, क्या न करें

ग्रहण काल में  गर्भवती स्त्री को घर के अंदर रहना चाहिए, बाहर नहीं निकलना चाहिए क्योंकि ग्रहण में सूर्य से हानिकारक तरंगे निकलती हैं जो माँ के साथ ही बच्चे की सेहत के लिए भी हानिकारक होती हैं

इसके अलावा तेल की मालिश भी नहीं करना चाहिए खाने के सामान में तुलसी के पत्ते डाल देना चाहिए, जिससे पका हुआ खाना ग्रहणकी वजह से अशुद्ध हो.

SURYA GRAHAN ग्रहण के बाद क्या करें

SURYA GRAHAN खत्म होने पर घर की सफाई करनी चाहिए, घर में स्थापित सभी देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को स्नान करवा शुद्ध करना चाहिए तत्पश्चात ही पूजा-पाठ करना चाहिए।